भारत का पहला स्काईवॉक ग्लास ब्रिज glass bridge जहां चीन अमेरिका जैसी होती हैं महसूस ,पूरी जानकारी...

आज हम अपने इस लेख में बिहार का पहला ग्लास ब्रिज के विषय में बताएंगे। वैसे इससे पहले आप इस तरह का पुल का नाम केवल विदेशों में ही सुना होगा। लेकिन अब बिहार के राजगीर में यह देखने को मिल रहा है.यदि आप बिहार में अपना वीकेंड छुटियाँ मानना चाहते हैं तो आपको इसके लिए आपको बिहार के राजगीर आना चाहिए. राजगीर में शांति स्तूप, पहाड़, हरे भरे जंगल, कांच का पुल, राजवीर जू, स्काईवॉक, निलंबन पुल जिपलाइन फ्लाइंग फॉक्स,जीप स्काई ,राइफल चलाना, बांस का घर, लकड़ी का घर और मिट्टी का घर आदि जैसे रोमांचक चीजो का लुफ्त उठा सकते हैं.तो आइए जानते हैं विस्तार से glass bridge in rajgir के बारे में-

भारत का पहला स्काईवॉक ग्लास ब्रिज glass bridge जहां चीन अमेरिका जैसी होती हैं महसूस ,पूरी जानकारी...

दोस्तो आप सभी ने लकड़ी,पत्थर ,ईंट सीमेंट छड़ से बने ब्रिज को जरुर देखा होगा। लेकिन क्या आप कभी शीशे के ब्रिज को देखा या उसपे चला है, अगर नही तो आप इस आने वाले वीकेंड छुट्टी में बिहार के राजगीर चलिये, जहा के ख़ूबसुन्दर हरि भरी पहाड़ो में शीशे का ब्रिज बना है. जिस पर आप अपना रोमांचक ट्रिप का भरपूर आनंद ले सकते है .बिहार का राजगीर तो वैसे भी पर्यटकों के बीच हमेशा से काफी पसंदीदा जगह रहा है.जहा हिंदू, बौद्ध तथा जैन धर्म से जुड़ी कई सारी मठ मंदिर , स्मारक आदि मौजूद हैं. और यही कारण है कि यहां भारत के आलवा विदेशों से भी सैलानी आते है.जहा पर चीन के तर्ज पर देश का पहला ग्लास ब्रिज बना है. जो काफी अद्भुत हैं.  

ग्लास स्काई वॉक ब्रिज राजगीर, बिहार

बिहार के पहला ग्लास ब्रिज राजगीर की जानकारी ( Glass Bridge Rajgir,India Information in Hindi)

glass bridge rajgir india:- जैसा कि हम सब जानते हैं कि राजगीर एक इंटरनेशनल टूरिस्ट प्लेस है। जहा देश के साथ विदेशी पर्यटकों का भी आना होता हैं। और इन्ही बातों को ध्यान में रखकर बिहार सरकार द्वारा यहां एक ग्लास स्काईवॉक ब्रिज का निर्माण किया गया है.यह ग्लास ब्रिज देश का दूसरा शीशे के ब्रिज हैं.इस ब्रिज का निर्माण चीन के हांगझोऊ में बने 120 मीटर ऊंचे शीशे ब्रिज के आधार पर किया गया है.

जिसपे चलते हुए सैलानी इस पुल के निचे के धरती वन पहाड़ सब को आसानी से देख सकते हैं. 250 फुट की ऊंचाई पर बनी कांच के इस ट्रांसपैरेंट ब्रिज पर चलना अत्यंत ही रोमांचकारी होता है. इस पर चलते हुए ऐसा प्रतीत होती हैं जैसे आप स्वयं को हवा में तैरता हुआ महसूस कर रहे हो। और यही कारण है कि इस कांच के पुल पर लोग अपने नेचर एडवेंचर का मजा लेने वँ सेल्फी लेने के लिए काफी भीड़ रहती हैं।

स्काई वॉक ब्रिज की विशेषता-glass bridge rajgir bihar

राजगीर में बने इस ग्लास स्काईवॉक ब्रिज कुल लम्बाई 85 फीट व चैडाई करीब 6 फीट है. औऱ धरती से घाटी इस ब्रिज की ऊंचाई करीब 250 फीट है. कांच के इस ब्रिज पर एक साथ में शुरुआत में तकरीबन 40 लोग जा सकेंगे, तो वही इसके डी सेक्टर यानी अंतिम छोर तक करीब एक साथ 10 लोग आसानी से जा सकते है।इस पुल के निर्माण में 15 एमएम के तीन लेयर के पारदर्शी कांच लगाए गए हैं. जिसकी कुल मोटाई 45 एमएम है, जिसके कारण इसपर चलना काफी रोमांचकारी भी होगा.

ग्लास ब्रिज राजगीर के आसपास-

ग्लास ब्रिज राजगीर के आसपास

बिहार के नालन्दा जिले में स्थित राजगीर अपने धार्मिक स्थल वँ प्राकृतिक सौंदर्य के लिए तो पहले से ही जाना जाता रहा है। लेकिन जब से यहाँ पर ग्लास स्काईवॉक ब्रिज का निर्माण हुआ है सैलानियों की संख्या में काफी बढ़ोतरी हुई है और उसी को ध्यान में रखकर यहां पर इस शीशे के पुल के आसपास कई औऱ चीजों को निर्माण किया गया है. जिसमे नेचर सफारी पार्क सबसे पहले आता है. जिसमें 90 से ज्यादा औषधीय गुणों वाले पौधे लगाए हैं।

राजगीर का ग्लास ब्रिज कहा है glass bridge in rajgir kaha hai

इसके अलावा यहां पर जू सफारी, तितली पार्क,साइकिल वे, आर्युवेदिक पार्क,ट्रेकिंग पाथ, जिप लाईन, तीरंदाजी, आर्चरी,मड और ट्री कॉटेज और वुडेन हट शांति स्तूप, पहाड़, हरे भरे जंगल, कांच का पुल, राजवीर जू , स्काईवॉक, निलंबन पुल जिपलाइन फ्लाइंग फॉक्स,जीप स्काई , राइफल चलाना, बांस का घर, लकड़ी का घर और मिट्टी का घर आदि जैसे आदि का निर्माण किया गया है.

जहाँ पर पर्यटकों को रुकने के लिए भी इंतेज़ाम किया गया हैं। तथा आप इस ब्रिज से कुछ ही दूरी पर स्थित शांति स्तूप भी जा सकते हैं और भगवान बुद्ध के शरण में कुछ पल व्यतीत कर सकते हैं, जिसे आपके मन को शांति प्राप्त होगी ।

ये भी पढ़ें- वाल्मीकि टाईगर रिजर्व की पूरी जानकारी-

राजगीर का ग्लास ब्रिज कहा है glass bridge in rajgir kaha hai 

Rajgir Glass bridge location:-भारत का दूसरा ग्लास ब्रिज बिहार के राजधानी पटना से 96 km दूर नालन्दा जिले के राजगीर के प्राचीन वैभार गिरी पर्वत के तलहटी में स्थित है.आपको साथ में यह भी हम बता दें कि देश का पहला ग्लास ब्रिज सिक्किम में है और वही तीसरा ब्रिज उत्तराखंड के हरिद्वार में अभी बन रहा है।

तो वही एशिया का पहला कांच का पुल चीन में बना था जो आम आदमी के लिए वर्ष 2016 में ओपन किया गया था. यह ब्रिज दुनिया का सबसे ऊंचा वं लम्बा कांच का ब्रिज हैं जिसकी कुल लम्बाई 430 मीटर तथा ऊंचाई 300 मीटर हैं और इसकी चौड़ाई 6 मीटर हैं।

बिहार राजगीर ग्लास ब्रिज टिकट ऑनलाइन बुक कहा करें? glass bridge rajgir online booking

पाठकों हम आपको यह बता दें कि बिहार में स्थित ग्लास ब्रिज का कोई आधिकारिक वेबसाइट उपलब्ध नहीं है जिसपे आप घर बैठे अपने फोन या लैपटॉप से राजगीर ग्लास ब्रिज के लिए ऑनलाइन टिकट बुक कर सके।अपने राजगीर ट्रिप के लिए।

राजगीर का ग्लास ब्रिज घूमने कब जाएं

राजगीर का ग्लास ब्रिज घूमने जाने का सबसे बेहतरीन समय अक्टूबर से लेकर जून माह तक जा सकते है. परन्तु आप अक्टूबर से लेकर अप्रैल महीने में जाये तो अच्छा रहेगा क्योंकि इस समय आप तेज धूप औऱ गर्मी से बच सकते हैं.

राजगीर ग्लास ब्रिज टिकट की कीमत glass bridge in rajgir ticket price

राजगीर में घूमने वाली औऱ देखने वाली बहुत सारी चीजें उपलब्ध हैं औऱ उन सभी चीजों का टिकट दर glass bridge rajgir entry fee सारे अलग अलग है जो नीचे दिए गए हैं।

ग्लास ब्रिज पर स्काई वॉक रु. 125/-

निलंबन पुल रु. 10/-

जिपलाइन फ्लाइंग फॉक्स रु. 100/-

जीप स्काई रु. 100/-

राइफल चलाना का रु. 50/-

दीवार पर चढ़ना . 20/-

तीरंदाजी करने का रु. 100/-

बैटरी रिक्ति रु. 10/-

बांस का घर, लकड़ी का घर और मिट्टी का घर रु. 500/-

चक्र रु. 10/-

इन्हें भी पढ़ें- भारत का सबसे स्वच्छ वँ साफ नदी की जानकारी-

ग्लास ब्रिज राजगीर का संपर्क नंबर glass bridge rajgir contact number

ग्लास ब्रिज राजगीर का वर्तमान समय में कोई टेलीफोन या मोबाइल नंबर आधिकारिक तौर पर उपलब्ध नहीं है. इसके लिए यदि आप चाहें तो फेसबुक पेज पर संपर्क कर सकते हैं ।

राजगीर कांच का पुल खुलने का समय Rajgir Glass bridge timing

ग्लास ब्रिज राजगीर बिहार प्रतिदिन खुलने का समय सुबह 9 से शाम 5 बजे तक होती हैं. औऱ सोमवार को बंद रहता है।

पूछे जाने वाले प्रश्न

राजगीर ग्लास ब्रिज की लंबाई, चौड़ाई तथा ऊंचाई कितनी है?glass bridge rajgir length

राजगीर स्काई वाई ब्रिज की लंबाई 85 फीट, चौड़ाई 6 फीट तथा ऊंचाई 250 फीट है।

Q. भारत का पहला स्काईवॉक ग्लास ब्रिज कहा है

भारत का पहला स्काईवॉक सिक्किम के सुरम्य शहर पेलिंग में स्थित है। यह 7200 फीट की आश्चर्यजनक ऊंचाई पर निर्मित, पर्यटकों को चोटी से लेकर पहाड़ों के बहुत नीचे तक हवा में कई हजार फीट नीचे देखने की अनुमति देती है।

Q. पेलिंग स्काईवॉक ब्रिज कहा है

पेलिंग स्काईवॉक ब्रिज भारत का पहला ग्लास स्काईवॉक ब्रिज है। यह सिक्किम में स्थित एक छोटा सा पहाड़ी शहर पेलिंग में है।

Q.पटना से राजगिर ग्लास ब्रिज की दूरी Patna to Rajgir Glass bridge distance

पटना से राजगिर ग्लास ब्रिज की दूरी 102 किमी है जहां बस या निजी सवारी से आने पर 2 घंटे 48 मिनट का समय लगता है।

Q राजगीर कांच का पुल कहाँ स्थित है? glass bridge rajgir kaha hai

राजगीर कांच का पुल बिहार के नालंदा जिले के राजगीर में स्थित है।

Q.भारत का पहला ग्लास ब्रिज कहा है

सिक्किम

Q.राजगीर ग्लास ब्रिज का लंबाई कितना है?

राजगीर ग्लास ब्रिज लंबाई में 430 मीटर (1,410 फीट) और चौड़ाई 6 मीटर (20 फीट) है।

Q.कांच के पुल में किस प्रकार के कांच का उपयोग किया जाता है?

कांच के पुल में "टेम्पर्ड ग्लास और लैमिनेटेड ग्लास पैनल का उपयोग किया जाता है। 

Q.ग्लास ब्रिज का टिकट कितना है?

राजगिर कांच के पुल देखने के लिये सबसे पहले entry fee 50 रुपये देने होंगे । उसके बाद glass ब्रिज पर घूमने के लिये ticket price 150 ₹अलग से देना होगा।

Q.राजगीर कांच का पुल जनता के लिए खुला है?

जी हाँ यह राजगीर कांच का पुल जनता के लिए खुला हैं जो सुबह 09:00 बजे से लेकर शाम 05:00 बजे तक खुला रहता है । 

Q.राजगीर कांच के पुल का टिकट मूल्य क्या है?

राजगीर कांच के पुल का प्रवेश शुल्क 50 रुपये है और अगर आप कांच के पुल पर जाना चाहते हैं तो आपको 150 रुपये अतिरिक्त देने होंगे।

अगर आप भी इस आने वाले साल के वीकेंड छुटियाँ मनाने के लिए प्लान तैयार कर रहे हैं तो आप बिहार के राजगीर को चुन सकते हैं. यह स्थान काफी ही सुंदर वँ प्राकृतिक रूप से संपन्न है.जहां आपको पहाड़ पर्वत मंदिर स्तूप,मठ वँ ऐतिहासिक धरोहर भी देखने को मिलेंगे।

हमारे साइट पर आने के लिए आपका बहुत धन्यवाद !

👇☝️

Conclusion:- राजगीर ग्लास ब्रिज का यह लेख आपको कैसा लगा, क्या यह glass bridge rajgir की जानकारी आपके के  लिए पर्याप्त है और अगर है तो आप हमें अपने विचार कमेंट कर बताएं। हम आपके हर एक प्रश्न का उत्तर देने के लिए तैयार है। औऱ आगे ऐसे ही पर्यटन स्थल की जानकारी के लिए हमारे वेबसाइट को subscribe करें!

औऱ भी पढ़ें- एशिया का सबसे स्वछ गांव भारत के सिक्किम में,पूरी जानकारी-

Dudhsagar Falls: मॉनसून में चार चांद लगाने वाले दूधसागर जलप्रपात के बारे में जाने पूरी जानकारी-

भारत के 10 प्राकृतिक आश्चर्य जनक स्थान के नाम वं पूरी जानकारी  (Information Of 15 Amazing Natural Wonders Places Of India In Hindi)

भारत का स्विट्जरलैंड कोडाइकनाल पर्यटन स्थल घूमने की जानकारी – Kodaikanal Tourism Information In Hindi

The Last Village of India: भारत का आखिरी गांव प्राप्त है भगवान शिव का आशीर्वाद, जहा पैर रखते ही व्यक्ति हो जाता अमीर

बड़ा बाग, जैसलमेर का जानकारी:- Bada Bagh Jaisalmer Information In Hindi



2 टिप्पणियाँ

Please Do Not Spam Comments In My Comments Box.

  1. Dear sir/madam.
    Such a wonderful article that I liked best, it delighted my mind and I think everyone will enjoy it even after reading it. would love see my best-makeup-kaise-karen site as well.
    Thanks once again.
    Mamtaskyt (Botldacare)

    जवाब देंहटाएं
  2. Nice article, I am also from bihar.

    क्या विटामिन सी सर्दी-जुकाम रोकने में मदद करता है?
    https://www.vigyankiduniya.com/2022/10/Does-vitamin-C-prevents-colds-full-info-in-Hindi.html

    Click here for more info..

    जवाब देंहटाएं
और नया पुराने