Modhera Sun Temple:- विश्व विरासत स्थल में शामिल प्रसिद्ध मोढ़ेरा सूर्य मंदिर के बारे में जानकारी...

Modhera Sun Temple in Hindi: आज का यह लेख भारत के हजारों साल प्राचीन सूर्य मंदिर के बारे में है. वैसे तो भारतवर्ष में कई ऐतिहासिक और भव्य सूर्य मंदिर देश के अलग अलग क्षेत्रों में स्थित हैं.  लेकिन यह मोढ़ेरा में स्थित सूर्य मंदिर एक ऐसा मंदिर है जहां पर पूजा अर्चना करने मना है. औऱ शायद इसीलिए भारत सदियों से अपने कला विज्ञान वँ संस्कृति के लिए पूरी दुनिया में प्रसिद्ध है.

Modhera Sun Temple:- विश्व विरासत स्थल में शामिल प्रसिद्ध मोढ़ेरा सूर्य मंदिर के बारे में जानकारी...

जिसका सबसे बड़ा उदाहरण है यहां की हजारों साल पहले बनायी गयी भव्य और विशाल हिन्दू मंदिरे, गुफाएं किले आदि। गुजरात राज्य भी देश के अन्य राज्यो की तरह भव्य वँ विशाल मंदिरों के लिए जाना जाता हैं. इनमें अधिकांश मंदिर का बनावट काफी प्राचीन हैं.वैसे तो इस राज्य का औऱ भी कई सारी खूबियां हैं.और कई प्रसिद्ध पर्यटन स्थल है. लेकिन आज हम जानेंगे   प्राचीन सूर्य  मंदिर मोढ़ेरा गुजरात के पर्यटन स्थल के बारे में-

मोढ़ेरा सूर्य मंदिर पर निबंध गुजरात-  Modhera Sun Temple gujarat Information in Hindi

Modhera Surya Mandir Wikipedia:- मोढ़ेरा सूर्य मंदिर गुजरात का प्रमुख ऐतिहासिक धार्मिक पर्यटन स्थल है. यह मंदिर गुजरात के एक गांव मोढेरा में पुष्पावती नदी के किनारे स्थित है. इस मंदिर का बनावट कुछ इस प्रकार है. कि सूर्योदय तथा सूर्यास्त की किरणें भगवान सूर्य की प्रतिमा पर पड़ती है. और यही कारण है. कि इस मंदिर को गुजरात राज्य में सबसे अधिक लोगों द्वारा देखे जाने का प्रथम स्थान प्राप्त है.यह मंदिर भगवान सूर्य देव को समर्पित हैं.

मोढेरा के सूर्य मंदिर का निर्माण 11वी सदी में सोलंकी वंश के महराजा भीमदेव प्रथम ने करवाया थे .यह मंदिर कुल तीन भागों में विभाजीत है. सूर्य कुंड, सभा मंडप तथा गुड़ा मंडप में विभाजित है.इस मंदिर के दीवारों पर हिन्दू देवी देवताओं के ख़ूबसुन्दर मूर्तियां के साथ साथ अन्य कई तरह के भी बिभिन्न सारी आकृतियों को उकेरी गई हैं. तथा उनकी डिजाइन और उत्कृष्ट नक्काशी की गयी है।

इनमें से कई सारी मूर्तियां को समभोग कामसूत्र यानी सेक्स को भी दर्शाया गया है. इस मंदिर को भारत के लोकप्रिय सेक्स मंदिरों के ( Sex Temples of India) के लिस्ट में भी रखा गया है.इस वजह से देश विदेश के लोगो के अंदर एक उत्सुकता सी होती हैं. आखिर ऐसे मंदिर बनवाने के पीछे कौन सा राज था. और शायद इसी वजह से हिन्दू धर्म के आलवा अन्य पंथ के लोग,पर्यटक, भी इस प्राचीन सूर्य मंदिर को देखने आते हैं.

मोढ़ेरा सूर्य मंदिर इतिहास - Modhera Surya Mandir History In Hindi

सूर्य मन्दिर मोढेरा लगभग 1000 वर्ष प्राचीन हिंदू मंदिर है.भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण ASI को यहां से मिले कई शिलालेख और उस पर अंकित बातों से इस मंदिर का निर्माण 1024-25 इस्वी में चौलुक्य राजवंश के राजा भीमदेव जी ने करवायी थी. मंदिर के आलवा इस परिसर में एक सूर्य कुंड का निर्माण 10वी से 11वी सदी के बीच करवाया गया था. तो वही मंदिर प्रांगण में ही बरामदे और मंदिर के मुख्य द्वार तथा कक्ष का निर्माण 12वी सदी के शुरुआती में राजा कर्ण के शासनकाल में हुई थी.

सन टेंपल मोढेरा का खासियत

52 स्तंभों पर ​है सभा मंडप

जैसा कि हमने आपको बताया , मोढेरा के सूर्य मंदिर का निर्माण तीन भागों में विभाजित कर किया गया है, उनमें से एक भाग सभा मंडप सबसे खास है.और देखने योग्य भी हैं.सभा मंडप कुल 52 स्तंभों पर खड़ा हैं. जो वर्ष के सभी 52 सप्ताह को दर्शाता है. इस मंदिर को आप सब विज्ञान का प्रयोगशाला भी कह सकते हैं .क्योंकि इस मंदिर के सभा मंडप पर वायु, पानी, पृथ्वी और अंतरिक्ष को दर्शाने के लिए इसके दीवारों पर सूर्यदेव भगवान की नक्काशी की गई है.इस मंदिर के सभा मंडप के दीवारों वँ खम्भो पर अप्सराओं की भी मूर्तियां उकेरी गई है.

खजुराहो जैसी नक्काशी की गई हैं सन टेम्पल मोढेरा पर 

इस मंदिर तीसरी खासियत यह है .कि यह सूर्य मंदिर का नक्काशी वँ कुछ बनावट तथा डिज़ाइन प्रसिद्ध खजुराहो के मंदिर जैसा है.और यही कारण है कि इस मंदिर को गुजरात का खजुराहो कहा जाता है.( Modhera Sun Temple Gujrat)

महाभारत वं-रामायण काल की चित्रकारी

मोढेरा के इस सूर्य मंदिर का दूसरा सबसे बड़ा खास बात यह है. कि इसके प्रांगण में कई ऐसे खंभे औऱ दीवारों के भाग हैं. जिनपे रामायण वँ महाभारत काल की चित्र कारी आपको दिख जाएगी. औऱ इन सभी खम्भो को जब भी कोई ऊपर से देखता है .तो वह अष्टकोणाकार दिखाई देता तो वही नीचे से देखने पर यह खम्भा गोलाकार दिखाई देता है.

ये भी पढ़ें-देश के सबसे खतरनाक किले में से एक हरिहर किला

मोढ़ेरा के प्रसिद्ध सूर्य मंदिर का बनावट  Architecture of Famous Modhera Sun Temple in Hindi

मोढ़ेरा के प्रसिद्ध सूर्य मंदिर का बनावट

मोढेरा के प्रसिद्ध सूर्य मंदिर का निर्माण गुर्जर शैली में हुआ है. इस मंदिर में तीन भागों के साथ साथ तीन अलग अलग रचनाओं में बनाया गया है.गुढ़मंड़पा, विश्राममंडल या रंग मंडल तथा पवित्र जल कुंड हैं .जिसमें गर्भगृह भी मौजूद हैं.इस मंदिर का सबसे बड़ा खासियत यह है कि इस मंदिर के सूर्य भगवान की मूर्ति पर सूर्यास्त वँ सूर्योदय के समय सूरज की किरणें सीधे सीधे पड़ती हैं.

जो अपने आप मे एक अद्भुत सरंचना हैं.इस मंदिर के दीवाल के साथ साथ इस के स्तम्भो पर प्रतिमाओं को उकेरी गई है. जिसमें हिंदू देवी देवताओं के साथ साथ अंतरंग कृत्यों में नग्न कामुक अवस्था में मूर्तियां बनाई गई है. इसलिए इसे सेक्स मंदिर के रूप में भी पूरे दुनिया में प्रसिद्ध हैं.

मोढेरा गांव का पौराणिक महत्व  Mythological significance of Modhera in Hindi

गुजरात का मोढेरा गांव अपने आसपास के इलाको में धर्मारण्य के नाम से जाना जाता हैं.हिन्दू धर्म ग्रन्थों में उल्लेखित कथाओं के अनुसार त्रेतायुग में भगवान राम लंका से रावण वध करने के पश्चात ब्राह्मण हत्या से खुद को लगे पाप को मुक्त करने के लिए धर्मरायण ( मोढेरा)में आए थे.

जिसके बाद भगवान राम ने यहां पर धर्मारायण नाम के एक बस्ती में मोधेरक को बसाया था .तथा उस स्थान पर एक यज्ञ किया,जिसे बाद में उस स्थान का नाम सीतापुर रख दिया गया औऱ सीतापुर वर्तमान मोढ़ेरा के नाम से जाना जाने लगा।

खिलजी ने किया था खंडित, तब से नहीं होती पूजा

12वी सदी से लेकर 16वी सदी तक हमारे देश भारत में कई मुस्लिम आक्रांताओ ने हमला किया औऱ हमारे देश के कला संस्कृति विज्ञान वँ मंदिरों को बर्बाद करने का काम किया.उन सभी हिन्दू मंदिरों में से गुजरात मोढेरा के सूर्य मंदिर को भी अलाउद्दीन खिलजी ने हमला कर इस मंदिर को तोड़ा,तथा मंदिर के गर्भगृह में स्थापित भगवान सूर्य देव की स्वर्ण मूर्ति को लूट लिया, इसके साथ वह इस मंदिर के और भी खजाने को लूट कर ले गया।तब से यहां पूजा-अर्चना नहीं होने दी जाती।

2014 में वर्ल्ड हेरिटेज में शामिल किया गया सूर्य मंदिर मोढ़ेरा को- 

World Heritage Site In Modhera Sun Temple Gujrat :- गुजरात के अहमदाबाद शहर के मोढेरा गांव में स्थित प्राचीन सूर्य मंदिर को वर्ल्ड हेरिटेज ऑर्गेनाइजेशन ने यानी यूनेस्को ने साल 2014 में, इस विश्व प्रसिद्ध मंदिर को विश्व धरोहर स्थलों की सूची में शामिल किया था.

ये भी पढ़ें- स्काई वॉक ग्लास ब्रिज राजगीर की जानकारी-

मोढ़ेरा सूर्य मंदिर जाने का बेस्ट समय  Best Time To Visit In Modhera Sun Temple  in Hindi

अगर आप मोढेरा के प्राचीन सूर्य मंदिर को देखने घूमने जाने का योजना बना रहे है.सबसे पहले आपको वहां के बारे में सब जानकारी होना चाहिए, जैसे मंदिर कब-कब खुलती हैं और कब कब बंद रहती हैं और कौन सा समय जाना बेहतरीन होगा। तो हम आपको यह जानकारी दे कि, मोढेरा सन टेंपल प्रातःकाल 6:00 बजे सुबहसे लेकर सन्ध्या 7:00 बजे तक आम सैलानियों के लिए खुला रहता है।

परन्तु हम आपको यह सलाह देंगे कि आप सूर्य मंदिर सुबह या शाम को जाएं, जिससे आप भी यह देख पाए कि कैसे सूर्य की किरणें भगवान सूर्य के प्रतिमा पर पड़ती हैं. समय के साथ साथ हम आपको यह भी बता दें कि Modhera Sun Temple Gujrat घूमने जाने का सबसे अच्छा समय अक्टूबर से लेकर अप्रैल माह तक का महीना बेस्ट रहेगा. 

वैसे तो यह मंदिर पर्यटकों के लिए सालों भर खुली रहती हैं लेकिन गर्मी के मौसम में यहां का तापमान अपने अधिकतम सीमा पर होती हैं, इस वजह से आपको वहां भयंकर गर्मी का सामना करना पड़ सकता है।इसलिए आप सर्दी के मौसम के आलवा बारिश के मौसम में भी आप जा सकते हैं.

मोढेरा गांव के सूर्य मंदिर का प्रवेश शुल्क – Entry Fee of Modhera Sun Temple  in Hindi

भारत में बहुत सारे मंदिर हैं जिन्हें देखने के लिये किसी भी पर्यटक को कोई शुल्क नही देनी पड़ती है और कुछ ऐसे मंदिर हैं जिन्हें देखने यानी दर्शन करने के लिए हर व्यक्ति उस मंदिर समिति द्वारा तय की गई निर्धारित शुल्क को देनी पड़ती हैं.

ठीक उसी प्रकार सन टेम्पल को देखने के लिए भारतीय पर्यटकों को 25 रूपये प्रतिव्यक्ति देनी पड़ती हैं तो वही विदेशी पर्यटकों को 300 रूपये प्रति व्यक्ति देनी पड़ती हैं. 8 वर्ष से छोटे सभी बच्चों को निःशुल्क जाने दिया जाता हैं.

मोढेरा सूर्य मंदिर गुजरात कैसे पहुचें – How To Reach Modhera Sun Temple Gujrat in Hindi

सूरज मंदिर मोढेरा आप हवाई मार्ग ,रेलवे या सड़क मार्ग से जा सकते हैं.

हवाई मार्ग द्वारा मोढ़ेरा सूर्य मंदिर कैसे जाएं-

हवाई मार्ग से सन टेम्पल मोढेरा जाने के लिए आपको नजदीकी हवाई अड्डा अहमदाबाद एअरपोर्ट पर जाना पड़ेगा. अहमदाबाद हवाईअड्डा से मोढेरा सन मंदिर 100 किमी की दूरी पर स्थित है. जहा से आप किसी भी टैक्सी के माध्यम से आसानी से मोढेरा पहुंच सकते हैं.

रेल मार्ग द्वारा मोढ़ेरा सूर्य मंदिर कैसे जाएं- 

रेल मार्ग से मोढेरा गांव के सूर्य मंदिर पहुचने के लिए आपको वहां के नजदीकी रेलवे स्टेशन बेचारजी रेलवे स्टेशन पहुचना होगा. जहा से मोढेरा की दूरी 16 किमी है।

सड़क मार्ग द्वारा मोढ़ेरा सूर्य मंदिर कैसे पहुंचे - 

सड़क मार्ग से मोढेरा पहुचने के लिए सबसे पहले आपको अपने राज्य के किसी एक्सप्रेसवे या राष्ट्रीय हाइवे के माध्यम से अहमदाबाद पहुचना होगा।जहां से आप बहुत ही आसानी से सूर्य मंदिर मोढेरा जा सकते हैं।

ये भी पढ़ें-मौजूदा श्री काशी विश्वनाथ मंदिर का इतिहास-

सूर्य मंदिर का मैप-@

हमारे साइट पर आने के लिए आपका बहुत धन्यवाद !

👇☝️

Conclusion:- आज का यह लेख गुजरात के मोढ़ेरा में स्थित प्राचीन सूर्य मंदिर का इतिहास, सूर्य मंदिर मोढ़ेरा का बनावट और सूर्य मंदिर मोढ़ेरा कैसे जाए का यह जानकारी आपको कैसा लगा। क्या यह  Modhera Sun Temple का यह जानकारी आपके लिए पर्याप्त है. और अगर है तो आप हमें अपने विचार कमेंट कर बताएं। हम आपके हर एक प्रश्न का उत्तर देने के लिए तैयार है।

औऱ भी पढ़ें- हिंगलाज माता मंदिर, बलूचिस्तान पाकिस्तान

एक टिप्पणी भेजें

Please Do Not Spam Comments In My Comments Box.

और नया पुराने