दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी मंदिरों में से एक अक्षरधाम मंदिर दिल्ली | SwamiNarayan Akshardham Mandir

नमस्कार दोस्तो,हमारा देश भारत हजारों सालों से भव्य और विशाल मंदिरों के निर्माण के लिए जाना जाता है. जिनके वस्तुकला और मंदिरों पर की गई नक्काशी को देखकर दुनिया आज भी हैरान रहती हैं. वैसी ही मंदिर के बारे में आज हम एक Akshardham Mandir के बारे में जानेंगे।

यह मंदिर दिल्ली में स्थित हैं जहां लगभग हर गांव शहर के लोग रहते हैं.और आते जाते भी हैं. जभी कोई दिल्ली की यात्रा पर जाता है, तो वे लोग दिल्ली में स्थित सभी ऐतिहासिक लाल किला,राजपथ, इंडिया गेट, राष्ट्रपति भवन, संसद भवन जैसे जगहों पर जाना पसंद करते हैं.

लेकिन इसके अलावा हमारे देश के सभी लोग दिल्ली में स्थित स्वामीनारायण अक्षरधाम मंदिर भी जाना जरूर पसंद करते हैं. परन्तु इस मंदिर से जुड़े हुई कई सारी महत्वपूर्ण जानकारी न होने के कारण बहुत सारे लोग जा कर भी निराश लौट आते हैं. और मंदिर दर्शन भी नही कर पाते हैं. तो आज हम आपको विस्तार से इस दिल्ली SwamiNarayan Akshardham Temple के बारे में बताते हैं.

अक्षरधाम मंदिर दिल्ली की जानकारी Akshardham Mandir Delhi All Information In Hindi

दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी मंदिरों में से एक अक्षरधाम मंदिर दिल्ली | SwamiNarayan Akshardham Mandir

अक्षरधाम मन्दिर  भारत के राजधानी दिल्ली में स्थित एक प्रसिद्ध वँ विशाल हिन्दू मंदिर है.जो दिल्ली के यमुना नदी के तट पर बना हुआ है. जिसे साल 2005 में खोला गया था. दिल्ली अक्षरधाम मंदिर को दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा मंदिर कहा जाता हैं.जो पूरी तरह से सनातन धर्म ,संस्कृति वँ उनके प्राचीन वास्तुकला वँ नक्काशी को   दर्शाता है. आपको यह भी बता दें कि इस मंदिर की खूबसूरती वँ भव्यता को देखते हुए अक्षरधाम मंदिर दिल्ली को गिनीज बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में रखा गया है.

दिल्ली अक्षरधाम मंदिर का निर्माण ज्योतिर्धर भगवान स्वामिनारायण जी की पुण्य स्मृति में बनवाया गया है.जो उन्हीं को समर्पित हैं.इस मंदिर के गर्भ गृह में भगवान श्री स्वामीनारायण का ही एक प्रतिमा स्थापित की गई हैं.इसी कारण इस मंदिर को स्वामीनारायण मंदिर भी कहते हैं.

भगवान स्वामीनारायण के आलवा यहां 20,000 अन्य महान वँ दिव्य महापुरुषों की भी मूर्ति लगयी गयी हैं।इस मंदिर का निर्माण कार्य संगमरमर और बलुआ पत्थर से किया गया है .जो कुल 100 एकड़ जमीन पर में बनी या फैली हुई हैं.

इस मंदिर परिसर में आने वाले हर सैलानी या भगवान के भक्त यहां आने के बाद एक अलग सा शांति खुद महसूस करते हैं.जैसे ही आप इस मंदिर के बारीकी से हर भाग वँ कोने को देखते हुए भगवान स्वामी नारायण का दर्शन करेंगे,आपको अजीब सा आनंद की प्राप्ति होगी।

ये भी पढ़ें- ओसियां का सच्चियाय माता मंदिर का जानकारी-

अक्षरधाम मन्दिर दिल्ली का इतिहास – Akshardham Temple Delhi History In Hindi

अक्षरधाम मन्दिर का निर्माण बोचासनवासी श्री अक्षर पुरुषोत्तम स्वामीनारायण संस्थान द्वारा की गई है. जिसे 6 नवंबर 2005 को आम नागरिकों के लिए खोला गया। इस मंदिर का मुख्य भाग इसका मुख्य परिसर ही हैं. जो 141 फुट ऊंचा , 350 फिट लम्बा औऱ 315 फीट चौड़े हैं.मंदिर परिसर के दीवार वँ छत पर अन्य देवी देवताओं , कलाकारों, नर्तकी रंग बिरंगी अलग अलग प्रकार के पुष्प वनस्पति आदि की तसवीर उकेरी गई है. 

इस मंदिर के हर भाग में ख़ूबसुन्दर नक्काशी की गई हैं .जो मंदिर की और ज्यादा खूबसूरती को बढ़ाता हैं. मंदिर के अन्य दीवारों पर भारतीय संस्कृति वँ ढेर सारी झलक को तस्वीरों द्वारा प्रदर्शित की गई है.अक्षरधाम मन्दीर को बनाने में कुल 11,000 कारीगरर तथा बीएपीएस स्वयंसेवकों द्वारा की गई हैं. जिसे बनाने में 5 वर्ष का समय लगा था।

स्वामीनारायण अक्षरधाम टेंपल का निर्माण कार्य महर्षि वास्तु वास्तुकला के सिद्धांत के आलवा अन्य भारतीय संस्कृति वास्तु शास्त्र कला पर आधारित बनी गयी है. जिसके लिए कई शिल्पकार की सहयोग लिया गया है। साथ में आपको यह बता दें कि इस अक्षरधाम टेम्पल के निर्माण कार्य में किसी भी प्रकार का कोई ईंट ,कंकडित छड़,आदि का प्रयोग नहीं किया गया है. यह मंदिर पूर्ण रूप से राजस्थान के बलुआ पत्थर वँ संगमरमर पत्थरों से बना हुआ है.

ये भी जाने-51 शक्तिपीठ में से एक तारापीठ मंदिर की जानकारी

अक्षरधाम मंदिर दिल्ली का प्रमुख आकर्षण केंद – Attractions Centre Of Akshardham Mandir Delhi In Hindi

अक्षरधाम मंदिर दिल्ली का प्रमुख आकर्षण केंद –


अक्षरधाम टेम्पल का मुख्य आकर्षण वाली तो ऐसे कई चीज हैं. जिन्हें आप घण्टो तक दिखते रह जाएंगे।उनमें से कुछ महत्वपूर्ण आकर्षण ये हैं-

सहजनानंद दर्शन Sahajanand Darshan In Hindi

इस मंदिर के मुख्य आकर्षण केंद्र सहजनानंद दर्शन हैं . जिसे आप द हॉल ऑफ वैल्यूज़ भी कह सकते हैं. इस हॉल का निर्माण खासकर प्रार्थना,दृढ़ता, अहिंसा जैसी चीजों की ज्ञान प्राप्त करने के बनाया गया है.यहां दर्शकों को ऑडियो क्लिप द्वारा सनातन धर्म से जुडी कालातीत संदेशों को सुनाया जाता हैं. आपको इस हॉल में दुनिया का सबसे छोटा एनिमेट्रोनिक रोबोट गुरुवर्व घनश्याम जी महाराज वँ भगवान स्वामीनारायण के रूप में मौजूद है।

बोट राइड Boat Ride In Hindi

भारत का यह एक ऐसा मंदिर है. जहा दर्शकों को नाव की आनंद लेने का व्यस्था की गई हैं.अक्षरधाम के दर्शन दौरान आगर आपको सांस्कृतिक नाव की सवारी करने का मन हो तो,आप कर सकते हैं.इस सांस्कृतिक नाव की जरिये आप दुनिया के प्रथम विश्वविद्यालय तक्षशिला की झलक देखेंगे।

इसके अलावा वैदिक ऋषिमुनि वैज्ञानिक आर्यभट्ट, ब्रह्मगुप्त, कालिदास, चाणक्य आदि महान दिव्य पुरुषों का योगदान को देखेंगें।अक्षरधाम परिसर में वाटर शो देखने के लिए वयस्क- 80 रूपये, वरिष्ठ व्यक्ति – 80 रूपये औऱ नवजवान वँ छोटे बच्चों – 50 रूपये का शुल्क देना पड़ता है।

संगीत फाउंटेन Musical Fountain In Hindi

आप जभी कभी अक्षरधाम की यात्रा पर जाएं तो आप वहां होने वाले संगीत फाउंटेन द्वारा लेजर वॉटर शो का आनंद जरूर लें. इस लेजर शो में फायर, लेजर,म्यूजिक , प्रोजेक्शन आदि दिखाया जाता हैं. इसे एकबार देखने के बाद आप हर बार देखने का मन करेगा।लेकिन अफसोस यह शो सिर्फ 25 मिनट का ही होता।जो प्रति दिन शाम को 7:30 में शुरू होता हैं.

नीलकंठ दर्शन Neelkanth Darshan In Hindi

संगीत फाउंटेन वँ सहजनानंद दर्शन के आलवा आपको अक्षरधाम परिसर में ही एक विशाल पर्दे पर नीलकण्ठ नामक एक योगी पुरूष की कथा के माध्यम से भारतवर्ष के विभिन्न प्रकार की जानकारी दी जाती हैं. इसमें भारत की सभ्यता संस्कृति वँ योग तथा आध्यत्म से जुडी हुई कई तरह की महत्वपूर्ण जानकारियां बतायी जाती हैं, जो आप सुन अपने भारतवर्ष वँ अपने हिंदू धर्म पर भी गर्व महसूस करते।

नारायण सरोवर Narayan Sarovar In Hindi

हमारे देश भारतवर्ष में हजारों साल से यह परंपरा चली आ रही है कि हम जहा भी रहे वहां प्रकृति द्वारा मिली हुई उपहार को सहेजे,उन्हें सुरक्षित करें फिर उपयोग।उसी में शामिल हैं जल निकाय या जल भंडारण तालाब पोखर का निर्माण।अक्षरधाम परिसर में भी एक सरोवर का निर्माण किया गया है. जिसमें भारतवर्ष के 151 नदियों को जमा किया गया है।

ये भी जाने- भगवान शिव दुनिया के सबसे बड़ा वैज्ञानिक 

अक्षरधाम टेम्पल खुलने का समय – Akshardham Temple Delhi Timing In Hindi

अक्षरधाम परिसर मन्दिर का खुलने का समय प्रातः सुबह 9:30 बजे हैं और बन्द होने का समय सन्ध्या शाम 8:30 बजे तक हैं.इसी दौरान मंदिर परिसर में होने वाले प्रदर्शनी का आयोजन प्रातः काल समय: सुबह 10:30 बजे से शाम 6:00 बजे तक होता रहता हैं।

अक्षरधाम मन्दिर का प्रवेश शुल्क – Akshardham Temple Ticket Price In Hindi

अक्षरधाम के मन्दिर में प्रवेश करने के लिए सबसे पहले आपको मंदिर का प्रवेश शुल्क जमा करने होंगे। इसमें

4 साल से कम उम्र के लिये फ्री हैं

4 साल से 21 वर्ष के लिए- 100 रूपये

22 साल से लेकर 60 ,70 वर्ष तक के लिए 170 रु

स्वामीनारायण अक्षरधाम टेम्पल दिल्ली से जुडी कुछ महत्वपूर्ण टिप्स- Some Important Tips For Akshardham Temple Delhi In Hindi

●इस मन्दिर कोई भी पर्यटक या श्रद्धालु किसी भी प्रकार का कोई मोबाइल फोन या कैमरा जैसी कोई अन्य

इलेक्ट्रॉनिक समान नहीं ले जा सकता है।इसपे सख्त रूप से पाबंदी हैं.

◆अक्षरधाम का मन्दिर सोमवार को बंद रहता हैं.

●मंदिर परिसर में बाहरी किसी भी प्रकार का खाना पीना नही ले जा सकते है.

◆अक्षरधाम परिसर में आपको अपने पहनावे पर खासकर ध्यान देना होगा यानी कि आप छोटे कपड़ो में गन्दे कपड़े में नही प्रवेश कर सकते हैं.यानी इस मंदिर में प्रवेश करने के लिए इस मंदिर समिति द्वारा बनाई गई ड्रेस कोड का पालन करना होगा, या आप मंदिर प्रवेश द्वार पर ही 100 रुपये में एक ड्रेस ले सकते हैं।

Notes-हमारे देश भारत के कई राज्य वँ उनके शहरों में भी अक्षरधाम मंदिर स्थित हैं. मित्रों आज का यह लेख आपको कैसा लगा,आप हमें कॉमेंट कर जरूर बताएं।

हमारे साइट पर आने के लिए आपका बहुत धन्यवाद !

👇☝️

Conclusion:- आज का यह लेख देश की राजधानी दिल्ली में स्थित स्वामीनारायण अक्षरधाम टेम्पल का यह जानकारी आपको कैसा लगा। क्या यह Akshardham Mandir Delhi In Hindi का यह जानकारी आपके लिए पर्याप्त है.और अगर है तो आप हमें अपने विचार कमेंट कर बताएं। हम आपके हर एक प्रश्न का उत्तर देने के लिए तैयार है।

औऱ भी पढ़ें- 

एक टिप्पणी भेजें

Please Do Not Spam Comments In My Comments Box.

और नया पुराने